शनिवार, 22 फ़रवरी 2020

क्या होता है शूटिंग स्टार/उल्का बौछार? What is Shooting Star/Meteor Shower?


क्या होता है शूटिंग स्टार/उल्का बौछार?What is Shooting Star/Meteor Shower?
आकाश में एक रोशनी की लकीर सभी को आकर्षित करती है। बहुत से लोग बच्चे उसे देख कर मनोकामना पूरी हो जाना मांगते हैं।
असल मे यह अंतरिक्ष से धूल के छोटे-बड़े कण/टुकड़ों के कारण होते हैं जो पृथ्वी की सतह से 65 से 135 किमी ऊपर जलते हैं। क्योंकि वे ऊपरी वायुमंडल में तीव्र गति से डुबकी लगाते हैं।  पृथ्वी सूर्य के चारों ओर 29 किमी/सेकंड की गति से चक्कर लगा रही है और धूल के ये टुकड़े लगभग 40 किमी/सेकंड की गति से यात्रा कर रहे हैं, इसलिए जब वे हमारे वायुमंडल में प्रवेश करते हैं, तो उनके पास 30 से 70 किमी/सेकंड की संयुक्त गति होती है।
सारः आसमान में कभी-कभी एक ओर से दूसरी ओर अत्यंत वेग से जाते हुए अथवा पृथ्वी पर गिरते हुए जो पिंड दिखाई देते हैं उन्हें उल्कापिंड (meteor) और साधारण बोलचाल में 'टूटते तारे' कहते हैं। उल्काओं का जो अंश वायुमंडल में जलने से बचकर पृथ्वी तक पहुँचता है उसे उल्कापिंड (meteorite) कहते हैं। पर्सिड्स उल्काएं 60 किमी/सेकंड दर की गति में पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करती हैं। हम इसे आकाश में प्रकाश की एक लकीर के रूप में देखते हैं। उल्का बौछार तब होता है जब हमारी पृथ्वी (ग्रह) उल्कापिंडों के समूह से होकर गुजरता है। उल्का वर्षा का नामकरण आमतौर पर उस समय के 'आकाश के क्षेत्र' (यानि नक्षत्र) के नाम पर किया जाता है जहां वे उत्पन्न होते हैं।    उदाहरण के लिए, प्रसिद्ध Perseids पर्शियड़ उल्कापात, जिसे हम 11-12 अगस्त के आस-पास देखते हैं, इसलिए इसका नामकरण इसलिए किया गया है क्योंकि वे नक्षत्र Perseus से आते हैं। ये धूमकेतु Swift-Tuttle की पूंछ की धूल के कारण होते हैं। पर्शियड़ उल्कापात (Perseid Meteor Shower) अर्ध रात्रि के बाद ययाति तारामंडल की ओर यह घटना पृथ्वी के स्विफ्ट टटल धुमकेतु के द्वारा छोड़े मलबे के मध्य गुज़रने के समय होती है। एक घंटे में 60-100 उल्काये देखी जा सकती है।
लगभग 21-22 मार्च को मेरीट्स उल्कापात का नजारा होता है। जिसमें उल्कापात की तरह 20 उल्का प्रति घंटा होती है।
वास्तव में, ऐसे कई अन्य उल्का बौछार भी हैं जो पेरेसिड्स की तरह हमे अच्छी तरह से ज्ञात नहीं हैं।
अन्य उल्का वर्षा
लियोनिड्स (नक्षत्र लियो में एक चमक के साथ उत्पन्न होती है) 18 नवंबर के आसपास होती है। 14 दिसंबर के आसपास जेमिनीड्स (नक्षत्र मिथुन) में होते हैं।
इसके अलावा भूली भटकी उल्कापात तो रोजाना होता हैं।
वर्ष 2020 के महत्त्वपूर्ण उल्कापात :-

4 जनवरी, 2020 क्वाड्रंटिड्स
 22 अप्रैल, 2020 लिरिड्स
 5 मई, 2020 एटा Aquariids
 जुलाई के अंत में, 2020 डेल्टा Aquariids
 12 अगस्त, 2020 पर्सिड्स
 7 अक्टूबर, 2020 ड्रेकोनिड्स
 21 अक्टूबर, 2020 ओरियोनिड्स
 4-5 नवंबर, 2020 साउथ टॉराइड्स
 11-12 नवंबर, 2020 उत्तर टॉरिड्स
 17 नवंबर, 2020 लियोनिड्स
 13-14 दिसंबर, 2020 जेमिनीड्स
 22 दिसंबर, 2020 उर्सिड्स।




2 टिप्‍पणियां:

अनाम ने कहा…

Nice info

Pooja ने कहा…

प्रकृति मे उपस्थित वस्तुओं के क्रमबध्द अध्ययन से ज्ञान प्राप्त करने को ही विज्ञान कहते हैं। या किसी भी वस्तु के बारे मे विस्तृत ज्ञान को ही विज्ञान कहते हैं । इसकी तीन मुख्य शाखाएँ हैं : भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान